Tag - वंश

तुगलकवंश (1320-25 ई0),सैयद वंश (1414-50)

  तुगलकवंश (1320-25 ई0) गयासुद्दीन तुगलक यह दिल्ली सल्तनत का पहला शासक था जिसने अपने नाम के पहले गाजी शब्द लगाया, दिल्ली की गद्दी पर बैठते ही इसने बाजार नियंत्रक नीति को समाप्त कर दिया, इसके काल की प्रमुख घटना निम्नलिखित थी। (1) इसके काल में डाक व्यवस्था [...]

लोदी वंश

  लोदी वंश संस्थापक-बहलोल लोदी लोदी अफगानी थे पहली बार दिल्ली सल्तनत पर अफगानों का शासन स्थापित हुआ। बहलोल लोदी (1454-89) पूरे दिल्ली सल्तनत में बहलोल लोदी ने सबसे अधिक समय तक शासन किया। इसकी महत्वपूर्ण सफलता जौनपुर को दिल्ली राज्य में मिलाने की थी। यह अपने सरदारों के [...]

खिलजी वंश

  खिलजी वंश(1290-1320) खिलजी द्वारा सत्ता स्थापित करने को क्रांति कहा जाता है। हलांकि इतिहासकारों में इस बात को लेकर मतभेद है कि खिलजी तुर्क थे या नही समकालीन इतिहासकार बरनी अपनी पुस्तक तारीखे फिरोजशाही में इन्हे तुर्क नही मानता लेकिन ऐसा माना जाता है कि [...]

दिल्ली सल्तनत,महमूद गजनवी,गोरी वंश,रजिया ,बलबन

  दिल्ली सल्तनत ईस्लाम का उदय:- इस्लाम धर्म का उदय छठी शताब्दी में हुआ इसका श्रेय मोहम्मद साहब को दिया जाता है। मुहम्मद साहब (570-632 ई0) पिता का नाम-अब्दुल्ला         माता का नाम-अमीना जन्म-570 मक्का में  पत्नी का नाम-खदीजा परवरिश-चाचा अबू जान मुहम्मद साहब 622 ई0 में मक्का से मदीना चले गये इसे [...]

कन्नौज के गहड़वाल,गुजरात का चालुक्य,कल्याणी के उत्तर कालीन पश्चिमी चालुक्य,हिन्दू शाही वंश,कश्मीर का इतिहास,कारकोट वंश,उत्पल वंश,लोहर वंश,देवगिरि के यादव,द्वारसमुद्र के होयसल,कदम्ब वंश

  ’कन्नौज के गहड़वाल’ संस्थापक- चन्द्रदेव   राजधानी:- कन्नौज गुर्जर प्रतिहारों के पतन के बाद चन्द्रदेव ने कन्नौज में गहड़वाल वंश की स्थापना 1090 ई0 में की। गहड़वाल शासकों को काशी नरेश के नाम से भी जाना जाता था। इस वंश का पहला प्रसिद्ध शासक गोविन्द चन्द्र हुआ। गोविन्द चन्द्र [...]

दिल्ली तथा अजमेर के चैहान,चंदेल वंश (बुन्देल खण्ड),परमार वंश,कलचुरिवंश,सेनवंश

  ’’दिल्ली तथा अजमेर के चैहान’ संस्थापक:- वासुदेव (सातवीं शताब्दी) राजधानी– शाकंभरी (अजमेर) एवं दिल्ली चैहान ने अपना मूल केन्द्र अजमेर व दिल्ली को बनाया लेकिन बाद में उन्होंने अपनी राजधानी दिल्ली में ही स्थानान्तरित कर ली। अजमेर:– इसका प्रारम्भिक नाम शाकंभरी था। अजयराज नामक शासक ने अजमेर [...]

मगध राज्य का उत्कर्ष,हर्यक वंश,शिशुनाग वंश,नन्द वंश

सोलह महाजनपदों में मुख्य प्रतिद्वन्दिता मगध और अवन्ति के बीच में थी इनमें भी अन्तिम विजय मगध को मिली। क्योंकि उसके पास अनेक योग्य शासक (बिम्बिसार, अजातशत्रु आदि) थे। लोहे की खान भी मगध में थी हलाँकि अवन्ति के पास भी लोहे के भण्डार [...]

राजपूत युग,प्रतिहार वंश,राष्ट्रकूट वंश,पालवंश

  राजपूत युग (7 या 8वीं शताब्दी) राजपूत शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम कर्नल टाड़ ने आठवीं शताब्दी में लिखी एक पुस्तक Annals and History Rajsthan  में किया है। राजपूत शब्द एक जाति के रूप में अरब आक्रमण के बाद ही प्रचलित हुआ। भारतीय इतिहास में 7वीं [...]