Tag - के

रसायन विज्ञान / 2 अंक के लिए / 2017-18/ mp board exam

mp board exam class 12th (2017-18) रसायन विज्ञान (2 अंक के लिए कुछ महत्पूर्ण प्रश्न ) ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- (i) एंजाइम क्या होते है ? (ii) हार्डी शुल्जे नियम क्या है ? (iii) अधिशोषण क्या है ? (iv) प्राप्य क्लोरीन से आप क्या समझते हो ? (v) गोताखोर गहरे समुद्र [...]

विविध प्रश्न -भारत के प्रमुख व्यक्ति एवं उनके कार्य

  भारत के प्रमुख व्यक्ति एवं उनके कार्य- 1.” ओउम जय जगदीश हरे “आरती के लेखक – श्रद्धाराम फिल्लौरी 2.वन महोत्सव के जनक – के.एम. मुंशी 3.सिनेमा के जनक – दादा साहब फाल्के 4.पंचायती राज के जनक – बलवन्त राय मेहता 5. परमाणु कार्यक्रम के जनक- होमी जहांगीर भाभा 6.भारतीय अर्थशास्त्र [...]

भारत के गर्वनर जनरल और वायसराय

  भारत के गर्वनर जनरल और वायसराय कुछ महत्वपूर्ण तथ्य:- बंगाल का प्रथम गर्वनर-क्लाइव। आत्महत्या करने वाला प्रथम गर्वनर-क्लाइव। महाभियोग का सामना करने वाला गर्वनर जनरल-वारेन हेस्टिंग्स। बंगाल का प्रथम गर्वनर जनरल-वारेन हेस्टिंग्स। वह गर्वनर जनरल जिसकी मजार गाजीपुर में है- कार्नवालिस। 1833 के अधिनियम के [...]

उत्तर कालीन मुगल साम्राज्य ,मुगल दरबार में विभिन्न गुट,विदेशी आक्रमण,मुगल साम्राज्य के पतन के कारण

  उत्तर कालीन मुगल साम्राज्य औरंगजेब की मृत्यु 1707 ई0 में अहमद नगर में हुई उसे दौलताबाद में दफना दिया गया। इस सत्र उसके तीन पुत्र जीवित थे-मुअज्जम, आजम एवं कामबकश औरंगजेब राज्य के बंटवारे के लिए बसीयत लिखा गया जिसये उत्तराधिकार का युद्ध न [...]

कन्नौज के गहड़वाल,गुजरात का चालुक्य,कल्याणी के उत्तर कालीन पश्चिमी चालुक्य,हिन्दू शाही वंश,कश्मीर का इतिहास,कारकोट वंश,उत्पल वंश,लोहर वंश,देवगिरि के यादव,द्वारसमुद्र के होयसल,कदम्ब वंश

  ’कन्नौज के गहड़वाल’ संस्थापक- चन्द्रदेव   राजधानी:- कन्नौज गुर्जर प्रतिहारों के पतन के बाद चन्द्रदेव ने कन्नौज में गहड़वाल वंश की स्थापना 1090 ई0 में की। गहड़वाल शासकों को काशी नरेश के नाम से भी जाना जाता था। इस वंश का पहला प्रसिद्ध शासक गोविन्द चन्द्र हुआ। गोविन्द चन्द्र [...]

दिल्ली तथा अजमेर के चैहान,चंदेल वंश (बुन्देल खण्ड),परमार वंश,कलचुरिवंश,सेनवंश

  ’’दिल्ली तथा अजमेर के चैहान’ संस्थापक:- वासुदेव (सातवीं शताब्दी) राजधानी– शाकंभरी (अजमेर) एवं दिल्ली चैहान ने अपना मूल केन्द्र अजमेर व दिल्ली को बनाया लेकिन बाद में उन्होंने अपनी राजधानी दिल्ली में ही स्थानान्तरित कर ली। अजमेर:– इसका प्रारम्भिक नाम शाकंभरी था। अजयराज नामक शासक ने अजमेर [...]

गुप्त साम्राज्य के अन्तर्गत प्रशासन,अर्थव्यवस्था,साहित्य,कला,धार्मिक जीवन

  गुप्त साम्राज्य के अन्तर्गत प्रशासन (Administration Under Gupta Dynasty) : गुप्तकालीन शासकों ने एक विशाल साम्राज्य का निर्माण किया था। पाटलिपुत्र इस विशाल साम्राज्य की राजधानी थी। गुप्त शासकों ने उन क्षेत्रों के प्रशासन में कोई हस्तक्षेप नहीं किया जहाँ के शासकों ने उनके सामन्तीय [...]

सिंधु घाटी सभ्यता के समय धार्मिक दशा एवं सिंधु घाटी सभ्यता का पतन

  धार्मिक दशा:-हड़प्पा के लोग एक ईश्वरीय शक्ति में विश्वास करते थे जिसके दो रूप में परम पुरुष एवं परम नारी इस द्वन्दात्मक धर्म का उन्होंने विकास किया धर्म का यह रुप आज भी हिन्दू समाज के विद्यमान है। 1-शिव की पूजा:-मोहनजोदड़ों से मैके को एक [...]

सिंधु घाटी सभ्यता के समय राजनीतिक संगठन एवं सामाजिक दशा

  राजनीतिक संगठनः- सिन्धु सभ्यता के लिपि के पढ़े न जाने के कारण यहाँ की शासन प्रणाली पर केवल अनुमान ही लगाया जाता है। समकालीन मेसोपोटामियां सभ्यता में मन्दिर के प्रमाण मिले हैं वहाँ पर पुरोहितों का शासन माना जाता है परन्तु सिन्धु सभ्यता से [...]

सिंधु घाटी सभ्यता के समय कला प्रौद्योगिकी एवं लिपि

  कला प्रौद्योगिकी मृदभाण्ड:-मृद भाण्ड लाल या गुलाबी रंग के होते थे। इन्हें कुम्हार के चाक पर बनया जाता था। इन्हें भठ्ठों में पकाया जाता था इन पर कई तरह की चित्रकारियां होती थी जिनमें पशु पक्षी मानव आकृति एवं ज्यामितीय आकृतियां प्रमुख हैं। इनमें ज्यामीतिय [...]

संविधान सभा के स्रोत

संविधान सभा के स्रोत अन्य देशो से ग्रहण किए गए कुछ प्रमुख प्रावधान  इस प्रकार है – ब्रिटेन :सरकार का संसदीय स्वरुप,एकल नागरिकता,कानून का शासन,विधि निर्माण की प्रक्रिया,संसदीय विशेषाधिकार,सर्वाधिक मत के आधार पर चुनावों मेंजीत का फैसला | अमेरिका : मौलिक अधिकार,संविधान की सर्वोच्चता,स्वतंत्र न्यायपालिका [...]

राज्य के नीति निदेशक तत्व [DIRECTIVE PRINCIPLES OF STATE POLICY]

हमारे संविधान की एक प्रमुख विशेषता नीति निर्देशक तत्व हैं। विश्व के अन्य देशों के संविधानों में आयरलैण्ड के संविधान को छोड़कर अन्य किसी देश के संविधान में इस प्रकार के तत्व नहीं हैं। भारतीय संविधान के निर्माताओं ने संविधान में केवल राज्य के [...]