Warning: Parameter 1 to wp_default_styles() expected to be a reference, value given in /home/anubhav1994/public_html/mpstudy.com/wp-includes/plugin.php on line 601

Warning: Parameter 1 to wp_default_scripts() expected to be a reference, value given in /home/anubhav1994/public_html/mpstudy.com/wp-includes/plugin.php on line 601
Medieval History Archives - MP Study
Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /home/anubhav1994/public_html/mpstudy.com/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 447

Medieval History

भारत के गर्वनर जनरल और वायसराय

  भारत के गर्वनर जनरल और वायसराय कुछ महत्वपूर्ण तथ्य:- बंगाल का प्रथम गर्वनर-क्लाइव। आत्महत्या करने वाला प्रथम गर्वनर-क्लाइव। महाभियोग का सामना करने वाला गर्वनर जनरल-वारेन हेस्टिंग्स। बंगाल का प्रथम गर्वनर जनरल-वारेन हेस्टिंग्स। वह गर्वनर जनरल जिसकी मजार गाजीपुर में है- कार्नवालिस। 1833 के अधिनियम के [...]

उत्तर कालीन मुगल साम्राज्य ,मुगल दरबार में विभिन्न गुट,विदेशी आक्रमण,मुगल साम्राज्य के पतन के कारण

  उत्तर कालीन मुगल साम्राज्य औरंगजेब की मृत्यु 1707 ई0 में अहमद नगर में हुई उसे दौलताबाद में दफना दिया गया। इस सत्र उसके तीन पुत्र जीवित थे-मुअज्जम, आजम एवं कामबकश औरंगजेब राज्य के बंटवारे के लिए बसीयत लिखा गया जिसये उत्तराधिकार का युद्ध न [...]

सिखों का इतिहास

  सिखों का इतिहास सिख धर्म के संस्थापक गुरुनानक थे। सिखों में कुल 10 शिख गुरु हुए जिनका इतिहास निम्नलिखित है। गुरु नानक (1469-1539) जन्म:-तलबड़ी (वर्तमान ननकाना साहिब) मृत्यु:-करतारपुर (डेरा बाबा) पिता का नाम:-कालू जी माता का नाम:-तृप्ता पत्नी का नाम:-सुलक्षणी जाति:- खत्री उपाधि:- हजरत रब्बुल मजीज सिखों के पहले गुरु गुरुनानक थे, इन्होंने नानक [...]

यूरोपीय कम्पनियों का आगमन-पुर्तगीज,डच,अंग्रेज,डेनिश,फ्रांसीसी

  यूरोपीय कम्पनियों का आगमन 15वीं शताब्दी से लेकर 17वीं शताब्दी के बीच निम्नलिखित यूरोपीय कम्पनियाँ क्रमशः भारत आयी- पुर्तगीज, डच, अंग्रेज, डेनिश, फ्रांसीसी। परन्तु इन कम्पनियों के स्थापना का क्रम थोड़ा सा भिन्न था। ये निम्नलिखित क्रम में स्थापित हुई- पुर्तगीज-अंग्रेज-डच-डेनिश-फ्रांसीसी।  पुर्तगीज सबसे पहले भारत पहुँचे, बाकी सभी कम्पनियाँ [...]

मैसूर राज्य,आमेर

  मैसूर राज्य विजय नगर राज्य के समय में ही 1612 ई0 में ओडियार नामक राजा ने मैसूर राज्य की स्थापना की इस मैसूर राज्य में आगे चलकर दो प्रमुख शासक हुए-हैदर अली एवं टीपू। इन्होंने अंग्रेजों के विरूद्ध संघर्ष जारी रखा। टीपू, हैदर अली दक्षिण [...]

स्वतन्त्र राज्यों का उत्थान

  हैदराबाद संस्थापकः–निजामुलमुल्क अथवा बिनकिलिस खाँ समय:-1724 मुहम्मद शाह के समय में सर्वप्रथम हैदराबाद के स्वतन्त्र राज्य की नींव निजामुलमुल्क ने रखी वह दिल्ली दरबार के षडयंत्रों के वातावरण से क्षुब्ध था अतः शिकार के बहाने दक्षिण गया और हैदराबाद राज्य की स्थापना की। मुहम्मद शाह ने मुबारिस्ता [...]

मराठा साम्राज्य-पेशवाओं का उत्थान

  पेशवाओं का उत्थान शाहू के समय में पेशवाओं का पुनः उत्थान हुआ। धीरे-धीरे वे ही मराठा राज्य के सर्वेसर्वा बन गये। बाला जी विश्वनाथ’’ (1713-20) बाला जी विश्वनाथ मराठा साम्राज्य के द्वितीय संस्थापक माने जाते हैं। इन्हीं के साथ में पेशवा का पद आनुवंशिक हो गया। बाला [...]

मुगल साम्राज्य-बाबर,हुमायूँ

  मुगल साम्राज्य संस्थापक-बाबर मुगल शब्द ग्रीक शब्द डवदह से बना है जिसका अर्थ है बहादुर, मुगल शासक पादशाह की उपाधि धारण करते थे। पाद का अर्थ है मूल और शाह का अर्थ है स्वामी अर्थात ऐसा शक्तिशाली राजा अथवा स्वामी जिसे अन्य कोई अपदस्थ नही कर [...]

अकबर (1556-1605)

  अकबर (1556-1605) जन्मः-15 अक्टूबर 1542 को अमरकोट के राणा वीरसाल के महल में । माँ का नाम:– हमीदा बानो बेगम (सिन्ध के पास) 1551 में 9 वर्ष की अवस्था में गजनी की सूबेदारी मिली। राज्याभिषेक:- कलानौर (पंजाब) 14 फरवरी 1556 को संरक्षक:- बैरम खाँ बैरम खाँ:- यह सिया मतावलम्बी था [...]

सल्तनत कालीन स्थापत्य कला

  सल्तनत कालीन स्थापत्य कला भारत और तुर्कों के आपसी मिलन से स्थापत्य के क्षेत्र में एक नयी शैली का उदय हुआ जिसे इन्डो-इस्लामिक शैली कहा जाता है। इस शैली की प्रमुख विशिष्टता मेहराब एवं गुम्बद का प्रयोग है। इस शिल्प को अरबों ने रोम से [...]

दिल्ली सल्तनत प्रशासन,प्रमुख ऐतिहासिक कृतियां

  दिल्ली सल्तनत प्रशासन प्रशासन:-दिल्ली सल्तनत का प्रशासन अरबी-फारसी पद्धति पर आधारित थी। इस प्रशासन का केन्द्र बिन्दु राजा या सुल्तान था। यह सुल्तान खुदा के नाम पर शासन करता था। जबकि वास्तविक सत्ता सुन्नी भातृत्व भासना अथवा मिल्लत में निहित थी। चूँकि मुस्लिम शासन पद्धति [...]

तुगलकवंश (1320-25 ई0),सैयद वंश (1414-50)

  तुगलकवंश (1320-25 ई0) गयासुद्दीन तुगलक यह दिल्ली सल्तनत का पहला शासक था जिसने अपने नाम के पहले गाजी शब्द लगाया, दिल्ली की गद्दी पर बैठते ही इसने बाजार नियंत्रक नीति को समाप्त कर दिया, इसके काल की प्रमुख घटना निम्नलिखित थी। (1) इसके काल में डाक व्यवस्था [...]